जंगल के बीच में एक झोपड़ी देखकर सेना का अधिकारी हैरान रह गया।

दृश्य बहुत ही सुंदर और रहस्यों से भरा है। प्रकृति आज भी लोगों के लिए एक रहस्य है। ऐसी तकनीक के विकास के बावजूद प्रकृति के कई रहस्यों का खुलासा नहीं हो पाया है। प्रकृति ने मनुष्य के लिए जंगल, नदियाँ और पहाड़ प्रदान किए हैं। आज मनुष्य इन्हीं की सहायता से अपना जीवन व्यतीत कर रहा है। लेकिन यह अक्सर प्रकृति के साथ हस्तक्षेप भी करता है। जिसका भयानक परिणाम अच्छा नहीं होता। बहरहाल, आज हम आपको प्रकृति के भयानक नसीब के बारे में बता रहे हैं।

पृथ्वी पर अधिकांश जंगल स्थित हैं। जंगल से ही हमें ताजी हवा और जीवन के लिए नई उपयोगी चीजें मिलती हैं। आज हम आपको जंगल की एक अजीबोगरीब घटना के बारे में बता रहे हैं। हम बात कर रहे हैं कैलिफोर्निया के अर्काटा जंगल की। इस समय जंगल में बनी एक झोंपड़ी लोगों के लिए रहस्य बन गई है। इस झोंपड़ी की चर्चा पूरे अमेरिका में हो रही है।

कुछ दिनों पहले इसी बात को लेकर एक रेंजर का आमना-सामना हो गया था। जिसकी उन्होंने कल्पना भी नहीं की थी। सालों से जंगल में रहने और काम करने वाले रेंजर मार्क आंद्रे एक दिन काटे जा रहे एक पेड़ को निशाना बनाने के लिए जंगल में घुस गए। तब उसने एक झुण्ड देखा, जिस पर वह संकट में था। उसने जंगल के बीच में एक हरी-भरी झोपड़ी देखी और उसे विश्वास नहीं हुआ। रेंजर ने कहा कि अगर वह कुछ दिन पहले जंगल में आया होता तो झोंपड़ी यहां नहीं होती। कुछ दिनों बाद जब वह लौटा तो झोपड़ी मिली।

रेंजर बहादुरी से झोंपड़ी के अंदर गया तो वह नजारा देखकर नाराज हो गया। जब वह झोंपड़ी के अंदर गया तो उसने देखा कि आलीशान घर जैसी हर तरह की चीजें थीं। वह समझ नहीं पा रहा था कि इतनी खतरनाक और शांत जगह में कौन रहना चाहता है।

झोपड़ी का निरीक्षण किया तो उसमें एक माह का सामान मिला। इसमें एक सोफा और एक टाइपराइटर भी मिला। रेंजर ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में कहा, “घर को देखकर ऐसा लगता है कि यहां कोई परेशान या सनकी व्यक्ति रहता है।”

घर के अंदर से एक सूची भी मिली। जिस पर दैनिक कार्यों की जानकारी तथा घर के कीमती सामान की जानकारी तथा मकान के जीर्णोद्धार के बारे में लिखा। बाहर से भले ही एक झोंपड़ी दिखाई दे रही हो, लेकिन इसे अंदर से एक मजबूत कंक्रीट के आधार पर बनाया गया था। इसे इस तरह से बनाया गया है कि इसे हर कोई आसानी से देख सके।

जब कोई मौजूद नहीं था, तो रेंजर ने घर के अंदर एक सूची पोस्ट की, जिसमें कहा गया कि सार्वजनिक संपत्ति पर प्रचार करना अवैध है। कुछ दिनों बाद जब रेंजर अपनी टीम के साथ पहुंचे तो झोपड़ी गायब थी। रेंजर ने बताया कि झोपड़ी हटने के बाद इतनी सफाई की गई कि पता ही नहीं चला कि यहां कोई रहेगा या नहीं। यहां एक भी मजाक नहीं मारा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here