कचरे में पड़े इस आदमी को लोग ६ महीने तक समज रहे थे पागल, जब हकीकत सामने आयी तो उड़ गए सब के होश

हर दिन हम बहुत सारे पागल और भिखारी देखते हैं, उनके पास न तो पहनने के लिए अच्छे कपड़े हैं और न ही उनकी हालत काफी करीब है। जिस कारण हम ऐसे लोगों से दूर रहते हैं। लेकिन क्या इस गंदे-गोरे इंसान की तरह परिवार भी होगा या नहीं? वह इस अवस्था में कैसे आ सकता था? हमने कभी यह जानने की कोशिश भी नहीं की।

ग्रेटर नोएडा से एक ऐसा ही मामला सामने आ रहा है जहां एक व्यक्ति लंबे समय से भूखा और प्यासा है। सड़क पर मौजूद लोगों ने भी उसे देखकर यह नहीं सोचा कि वह पागल है। लेकिन एक दिन, एक राहगीर, सुनील नागर, ने उस आदमी को देखा, उससे संपर्क किया और उससे बात की। बातचीत के दौरान, यह पता चला कि इस व्यक्ति ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है। उसे कुछ खास याद नहीं था, उसे बस एक फोन नंबर याद था।

सुनील ने उस व्यक्ति को फोन नंबर पर बुलाया जिसे उसने याद किया और पता चला कि उस व्यक्ति का नाम विकास उर्फ ​​पप्पू यादव है, जो पटना, बिहार का निवासी था। अपने माता-पिता की अचानक मृत्यु के कारण विकास ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया था। विकास द्वारा प्राप्त संख्या इसका फूवा थी। उसे याद नहीं था लेकिन उसे अपने फूफा का मोबाइल नंबर याद था।

सुनील ने विकास के एक वीडियो कॉल के जरिए अपने फूफा से भी बात की। विकास तब भावुक हो गए जब उन्होंने फूवा को एक वीडियो कॉल में देखा। विकास के फूवा ने सुनील को बताया कि उसके माता-पिता की मृत्यु के बाद, सुनील ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया और उसका अस्पताल में इलाज चल रहा था लेकिन एक दिन अचानक वह अस्पताल से भाग गया।

सुनील ने 108 को फोन करके उस आदमी की मदद के लिए एम्बुलेंस मंगवाई लेकिन एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं थी इसलिए विकास को पुलिस की मदद से नजदीकी सरकारी अस्पताल ले जाया गया।

सुनील की अल्पकालिक मेहनत ने विकास को, जो 6 महीने के लिए अपने परिवार से अलग हो गया था, अपने परिवार के साथ पुनर्मिलन की अनुमति दी। इससे पहले भी सुनील ने पंजाब के निवासी अंगरेज सिंह को अपने परिवार के साथ फिर से मिलवाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here