अफगानिस्तान: तालिबान से नहीं डरे मंदिर के पुजारी ने कहा, ‘मैं नहीं भागूंगा.

तालिबान ने रविवार को अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया और राष्ट्रपति अशरफ गनी देश से ओमान के लिए रवाना हो गए। काबुल पर तालिबान के कब्जे और देश में जारी अफरातफरी के कारण बड़ी संख्या में लोग जान बचाकर भाग रहे हैं। लेकिन काबुल के रत्ननाथ मंदिर के पुजारी पंडित राजेश कुमार ने अपनी जान बचाने के लिए काबुल से भागने से इनकार कर दिया।

पंडित राजेश कुमार ने कहा कि कुछ हिंदुओं ने मुझसे काबुल छोड़ने का अनुरोध किया और मेरी यात्रा और आवास की व्यवस्था करने की पेशकश की। लेकिन मेरे पूर्वजों ने सैकड़ों वर्षों से इस मंदिर की सेवा की है। मैं इसे नहीं छोड़ूंगा। अगर तालिबान ने मुझे मार डाला तो मैं इसे अपनी सेवा मानूंगा। ये बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखपत्र आयोजक ने अपनी रिपोर्ट में लिखी हैं।

अब अफगानिस्तान में तालिबान का राज आ गया है। तालिबान लड़ाके कल शाम राजधानी काबुल में दाखिल हुए और कुछ ही देर बाद काबुल में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति भवन में घुस गए। तालिबान के राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने से पहले अशरफ गनी ने काबुल छोड़ दिया। जैसे ही उन्होंने अफगानिस्तान छोड़ा, काबुल शहर में उथल-पुथल मच गई।

काबुल एयरपोर्ट पर कल शाम से बड़ी संख्या में लोग मौजूद हैं। ये लोग किसी तरह काबुल से भागना चाहते हैं। ये सभी लोग इस प्रयास में कुछ भी करने को तैयार हैं। काबुल के एक वीडियो में तीन अफगान नागरिकों को एक अमेरिकी विमान से गिरते हुए दिखाया गया है। कहा जा रहा है कि ये नागरिक विमान के ऊपर से गिरे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here