एक सप्ताह में सोमवार को नाखून काटना क्यों शुभ है? इन दिनों नाखून काटने के बहुत सारे फायदे हैं..

सोमवार के दिन नाखून काटना बहुत ही शुभ माना जाता है क्योंकि इस दिन ब्रह्मांड में ग्रह और नक्षत्रों की स्थिति और दिशाएं एक जैसी होती हैं और साथ ही ब्रह्मांड से आने वाली सूक्ष्म किरणें भी बहुत शुभ होती हैं। इन किरणों का मानव शरीर पर प्रभाव पड़ता है और सात वर्षों तक मनुष्य के जीवन काल में वृद्धि होती है। भारतीय ज्योतिष और हमारे हिंदू कैलेंडर के अनुसार, सप्ताह में सात दिन होते हैं।

इन सात दिनों का अपना अलग महत्व है। भारतीय परंपराएं और मान्यताएं भी इससे जुड़ी हैं। इन सभी बातों का उल्लेख हमारे वेदों में ऋषियों ने भी किया है। भारतीय हिंदू शास्त्रों के अनुसार, सप्ताह के हर दिन, किसी विशेष ग्रह का प्रभाव पृथ्वी पर पड़ता है। जैसा कि हमें अलग-अलग चीजों को करना चाहिए या नहीं करना चाहिए।

उदाहरण के लिए, कपड़े नहीं धोने चाहिए, नाखून नहीं काटने चाहिए और गुरुवार को बाल नहीं काटने चाहिए। आधुनिक समय में, लोग इन सभी बातों को अंधविश्वास के रूप में अस्वीकार करते हैं, दूसरी ओर, हमारे बुजुर्गों को इन सभी नियमों का पूरी ईमानदारी और ईमानदारी के साथ पालन करते देखा जाता है। जिसका हमें पालन भी करना चाहिए।

हिंदू धर्म द्वारा बनाई गई ये सभी परंपराएं या रीति-रिवाज न केवल हमारे बुजुर्गों का अनुसरण करने के लिए हैं, बल्कि इन परंपराओं या रीति-रिवाजों के पीछे एक निश्चित वैज्ञानिक कारण भी है। इसीलिए इन मान्यताओं का पालन पूरे समाज द्वारा किया जाता है। हमने अक्सर अपने आस-पास के लोगों से सुना है कि हमें किसी निश्चित दिन कुछ चीजें करनी चाहिए या नहीं करनी चाहिए।

जैसा कि आपने कई बार सुना होगा कि सप्ताह के इन तीन दिनों यानी मंगलवार, शनिवार और रविवार को नाखून या बाल नहीं काटने चाहिए लेकिन इस आधुनिक जीवन शैली में रहने वाले लोग इन सभी बातों पर ध्यान नहीं देते हैं। इनमें से प्रत्येक अधिनियम पर लगाए गए प्रतिबंधों और छूटों के बारे में अधिकांश लोगों को संदेह है और वे इसके पीछे के कारण को जानने के लिए उत्सुक हैं।

तो चलिए आज हम सोमवार को नाखून काटने
से होने वाले फायदों के बारे में जानते हैं । अगर हम भारतीय शास्त्रों के अनुसार जानते हैं, तो कई लोगों के दिमाग में यह सवाल होगा कि सप्ताह के किस दिन काम करना है या नहीं। तो ऐसी सभी जानकारी हमारे वेद पुराण से प्राप्त की जा सकती है और इसके पीछे के वैज्ञानिक कारण भी बहुत स्पष्ट रूप से सिद्ध होते हैं। जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, सप्ताह के सात दिनों में से मंगलवार, रविवार और शनिवार को इन तीन दिनों के दौरान नाखून नहीं काटा जाना चाहिए।

ऐसा माना जाता है कि इन दिनों के दौरान ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति और चरण बिल्कुल समान नहीं होते हैं और इन दिनों के दौरान ब्रह्मांड से आने वाली सूक्ष्म किरणें मानव मस्तिष्क पर बहुत संवेदनशील प्रभाव डालती हैं। मानव शरीर की उंगलियों के अग्र भाग के साथ-साथ सिर के हिस्से को बहुत संवेदनशील माना जाता है। शरीर के दोनों हिस्से नाखूनों के साथ-साथ बालों से भी सुरक्षित रहते हैं। साथ ही ब्रह्मांड से आने वाली सूक्ष्म किरणों का सबसे बड़ा प्रभाव भी इसी हिस्से पर पड़ता है।

यही कारण है कि हमारे बुजुर्ग और हिंदू धर्म भी इन दिनों में बाल और नाखून काटने से मना करते हैं। दूसरी ओर, सप्ताह की शुरुआत यानी पहले दिन यानी सोमवार को नाखून और बाल काटने के लिए शुभ माना जाता है जो एक विशेष कारण भी है जिसके पीछे ज्योतिष के अनुसार और हिंदू धर्म के अनुसार सोमवार को मानव जीवन में नाखून काटना सात है। साल बढ़ता जाता है।

इसके विपरीत, शनिवार को नाखून काटने से किसी व्यक्ति की जीवन प्रत्याशा सात साल कम हो जाती है। सोमवार के दिन नाखून या बाल काटना बहुत शुभ माना जाता है क्योंकि इस दिन ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति और स्थिति अच्छी होती है और ब्रह्मांड से आने वाली सूक्ष्म किरणें बहुत शुभ होती हैं। इन किरणों का मानव शरीर पर प्रभाव पड़ता है और सात वर्ष तक मनुष्य के जीवनकाल को बढ़ाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here