ये 10 मंत्र दुखोंको करता है नाश, इनका जाप करने से भाग्य खुलता है, दरिद्रता होती है दूर

शास्त्रों में लाखों चमत्कारी मंत्रों का उल्लेख किया गया है और इन मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति को उसके दुखों से मुक्ति मिलती है और जीवन खुशियों से भरा होता है। आज हम आपको शास्त्रों में बताए गए 10 ऐसे चमत्कारी मंत्र बताने जा रहे हैं, जिनका जाप करने से भगवान की कृपा आप पर बनती है और आपको हमेशा सफलता मिलती है। आपको प्रतिदिन इन मंत्रों का जाप करना चाहिए।

मंत्र तीन प्रकार के होते हैं

शास्त्रों के अनुसार 3 प्रकार के मंत्र हैं जो सात्विक, तांत्रिक और साबर हैं। साबर मंत्र बहुत जल्द साबित होते हैं। जबकि तांत्रिक मंत्र में कुछ समय लगता है। वहीं कुछ समय बाद सात्विक मंत्र भी सिद्ध हो जाते हैं। लेकिन जब सात्विक मंत्र साकार होते हैं,

तो इसका प्रभाव जीवन भर रहता है। इसलिए आपको सात्विक मंत्र का जाप करना चाहिए। प्रतिदिन मंत्रों का जाप किया जाता है। उन्हें सात्विक मंत्र कहा जाता है और उनका जाप करने से मन की शक्ति बढ़ती है और व्यक्ति को सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है।

तो आइए जानते हैं 10 प्रसिद्ध सात्विक मंत्र

पहला मंत्र
कठिन मंत्र: कृष्ण वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणत कलशंसे गोविन्दाय नमो नमः se

इस मंत्र का जाप करने से घर में कलह दूर होती है और परिवार में सुख-शांति आती है।

दूसरा मंत्र
शांतिदायक मंत्र: श्री राम, जय राम, जय जय राम

इसे हनुमानजी का सबसे चमत्कारी मंत्र माना जाता है और इस मंत्र का जाप करने से सभी मुश्किलें दूर हो जाती हैं।

तीसरा मंत्र
चिंतामुकि मंत्र: ओम नम: शिवाय।

शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय इस मंत्र का जाप करें। इन मंत्रों का जाप करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं।

चौथा मंत्र
संकटमोचन मंत्र: ओम हनुमते नम: ।।

हनुमानजी के इस मंत्र का अभ्यास करने से जीवन की कठिनाइयों का नाश होता है और आपको सुखी जीवन मिलता है।

पाँचवाँ मंत्र
भूरिदा भूरी देहिनो, माँ डाबरभा भूरी। भूरी घनेन्द्र दित्ति।
ओम् भूरिदा तस्य श्रुतः पुरुता शूर वृत्रम्। भजस्वा राधासी पर आओ।

2. ओम नमो नारायण। या श्री नारायण नारायण हरि-हरि।

3. ओम नारायण विद्महे।
वासुदेवाय धीमहि।

तन्नो विष्णुप्रकाशे। तवमेव माता
च पिता टीवीमेव
टीवीमेव बंधुषु सख तवेमेव।
त्वमेव विद्या द्रविणं
तमेव तवमेव सर्व मम देवदेव।

शांताकारम भुजगस्यां पद्मनाभं सुरेशं।
विश्वेद्रं गगनसुद्रं मेघवर्णम् शुभम्।
लक्ष्मीकान्तकमलनामयोगभिरध्ययनग्यम्।
वन्दे विष्णु भवभयहार सर्वोलोकनाथम्।

ये भगवान विष्णु के मंत्र हैं और इन मंत्रों का जाप करने से भगवान विष्णु की कृपा बनती है।

मृत्यु पर विजय के लिए छठा मंत्र
महामृत्युंजय मंत्र: ओम त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिपुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनमन्त्रिकमल वैवाहिक।

जीवन के आरंभ में, आपको भगवान शिव के महान मंत्र का जाप करना चाहिए।

सातवां मंत्र
सिद्धि और मोक्षदायी गायत्री मंत्र:

।। भूर्भुव: स्व: ततस्वत्वरवर्णनम् भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।

गायत्री मंत्र बहुत शक्तिशाली है और इस मंत्र का जाप करने से मानसिक शांति मिलती है।

आठवां मंत्र
रिच मंत्र: ओम गण गणपति नम:।

यह मंत्र गणेश का मंत्र है और किसी भी काम को शुरू करने से पहले इस मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से कार्य सफल हो जाता है।

नौवां मंत्र ओम श्रीं श्रीं परमेश्वरी कालिके सर्व

आर्थिक लाभ के लिए इस मंत्र का जाप करें।

दसवांमंत्र

कमजोर जप मंत्र: ह्रीं श्रीं श्रीं लक्ष्मी वासुदेवाय नम:

इस मंत्र का जाप करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न हो सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here