चाय पीने के बाद ये गलतियां न करें, नहीं तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है,

बहुत से लोग हर दिन गर्म चाय, कॉफी या सूप पीने का आनंद लेते हैं। इतने सारे लोग केवल सर्दियों के मौसम में गर्म चाय के पिता हैं। गर्म चाय पी.वी. हालांकि अच्छी लगती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह गर्म चाय आपको कैंसर के कगार पर ले जा रही है। आप सोच सकते हैं कि चाय, कॉफी या सूप थोड़ा ठंडा पेय है। लेकिन कप में आने के कम से कम 4 या 5 मिनट बाद पीना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।

छवि स्रोत

मामला तलाशी में सामने आया है। इस खोज के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। इसलिए अगर आपको भी गर्म चाय पीने, छोड़ने और स्वस्थ रहने की आदत है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल के अनुसार, बहुत अधिक गर्म चाय या कॉफी पीने से एसोफैगल या गले के कैंसर का खतरा आठ गुना बढ़ जाता है। इसके पीछे कारण यह है कि गर्म चाय या कॉफी गले के ऊतकों को नुकसान पहुंचाती है। जो लोग गैस से चाय या कॉफी लेने के 2 मिनट के भीतर चाय पीते हैं उन्हें कैंसर का 5 गुना अधिक खतरा होता है।

छवि स्रोत

इसकी पुष्टि करने के लिए 50 हजार लोगों पर शोध किया गया। जेलोको अपने गले को और नुकसान पहुंचाने के लिए बहुत गर्म चाय या कॉफी पीता है। विशेषज्ञों के अनुसार, चाय पीने और इसे एक कप में डालने के लिए 5 मिनट की अवधि होनी चाहिए।

गर्म चाय पीने से न केवल कैंसर, बल्कि एसिडिटी, अल्सर, पेट से संबंधित बीमारियां हो सकती हैं। सिर्फ चाय ही नहीं बल्कि कोई भी गर्म खाना या पी.वी. जो पेट को प्रभावित करता है। जब हम भोजन करते हैं, तो हमें इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हम जो खा रहे हैं वह जितना संभव हो उतना गर्म होना चाहिए ताकि न केवल गले या मुंह बल्कि पेट भी जल न जाए।

इसके अलावा बहुत अधिक चाय पीने से भी शरीर को नुकसान पहुंचता है। दिन में तीन कप से अधिक चाय नहीं पीनी चाहिए।

कई लोगों को सुबह उठने और खाली पेट चाय पीने की आदत होती है। लेकिन खाली पेट चाय पीने से कैंसर और एसिडिटी का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही मनुष्य की आयु भी घटती है।

कई लोगों को उतरने के तुरंत बाद चाय पीने की आदत होती है। इस आदत का स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। भोजन में पोषक तत्व होते हैं। जिससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। लेकिन फिर चाय पीने से भोजन के पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं।

कई लोगों को रात में बिस्तर पर जाने से पहले चाय पीने की आदत होती है। रात को चाय पीने से पहले, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि चाय में कैफीन नामक एक तत्व होता है जो शरीर के लिए हानिकारक है, इसलिए यह रात में पचने योग्य नहीं है। जो कब्ज का कारण बनता है।

कई लोग चाय बनाते समय मिर्ची, इलायची, जायफल जैसी जड़ी-बूटियाँ डालते हैं। ये जड़ी बूटियां शरीर के लिए अच्छी होती हैं। लेकिन चाय में कैफीन होने की वजह से इन जड़ी-बूटियों का कोई असर नहीं बल्कि नुकसान होता है।

छवि स्रोत

चाय बनाते समय विशेष ध्यान रखें: चाय बनाते समय पहले पानी उबालें और उसमें चाय डालें, फिर दूध डालें।

चाय के पानी को एक बार उबालना पर्याप्त है। यदि आप तीस मिनट से अधिक समय तक चाय उबालते हैं, तो पानी ऑक्सीजन से वंचित हो जाएगा और चाय का स्वाद भी खराब होगा।

छवि स्रोत

हमेशा उबलते पानी में चाय पाउडर डालें। इससे चाय का रंग और स्वाद दोनों अच्छे लगेंगे। कभी भी आधे घंटे से ज्यादा रखी चाय नहीं पीनी चाहिए। इससे कब्ज हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here