मां दुर्गा की मूर्ति निकलते ही दंग रह गए मछुआरे, खुशहाल हो गए गांव के लोग..

को उत्तर प्रदेश के जौनपुर नदी में एक हजार साल पुरानी दुर्गा की मूर्ति मिली है। मछुआरे मछली पकड़ने के लिए नदी में जाल डालते हैं। कुछ मिनट बाद जब जाल को बाहर निकाला गया तो एक अष्टकोणीय मूर्ति मिली। 

मछुआरों ने घाटों पर मूर्ति रखकर पूजा की। मछुआरे एक भव्य मंदिर बनाने की योजना बना रहे हैं। तभी किसी ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर गई और मूर्ति को अपने साथ ले गई।

केराकाट थाना क्षेत्र के सरोज बडेवार घाट पर मछुआरे मछली पकड़ने आए थे। उसने नदी में जाल फेंका। थोड़ी देर बाद जाल खींचा तो भारी लगा।

पहले तो यह पत्थर जैसा लगा, लेकिन जब जाली निकली तो उसमें देवी दुर्गा की एक अष्टकोणीय मूर्ति मिली। पुलिस ने मूर्ति रख ली है।

2 फुट की मूर्ति है: अष्टकोणीय प्रतिमा लगभग 2 फीट लंबी है। मछुआरों ने कहा कि वे अष्टकोणीय मूर्ति की खोज के बाद भव्य मंदिर का निर्माण करने वाली मां हैं।

इस बात का प्रचार करने के लिए मछुआरों की भीड़ मूर्ति के चारों ओर जमा हो गई। आसपास के गांवों के लोग भी पहुंचे। ग्रामीणों के अनुसार मूर्ति का संबंध राजा के महल से हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here